Deprecated: Function is_staging_site is deprecated since version 3.3.0! Use in_safe_mode instead. in /home/u862694509/domains/sirwiznews.com/public_html/wp-includes/functions.php on line 6078
12 मार्च को तेजस लाइट कॉम्बैट एयरक्राफ्ट का हुआ हादसा: पायलट सुरक्षित, जाँच जारी - SirWiz News
Deprecated: Function is_staging_site is deprecated since version 3.3.0! Use in_safe_mode instead. in /home/u862694509/domains/sirwiznews.com/public_html/wp-includes/functions.php on line 6078

12 मार्च को, जैसलमेर, राजस्थान के करीब एक भारतीय वायुसेना (आईएफ) तेजस लाइट कॉम्बैट एयरक्राफ्ट (एलसीए) की एक अभ्यास उड़ान के बाद एक हादसा हुआ। 2001 में विमान के उड़ान के बाद, यह एक स्वदेशी विमान संबंधित पहली दुर्घटना थी। इस दुर्घटना के बावजूद पायलट ने विमान से सुरक्षित निकलने में कामयाब रहे, और प्राधिकरण तत्काल ही एक जाँच का आदेश दिया ताकि हादसे के कारण पता लगाया जा सके।

घटना का विवरण

 

घटना त्रिसेवा भारत शक्ति फायरपावर प्रदर्शन अभ्यास के दौरान घटी, जिसे शीर्ष सैन्य अधिकारियों और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देखा। भारतीय वायुसेना के 18 वायुसेना से एक विमान तेजस, युद्ध अभ्यास में भाग ले रहा था और एक स्थानन दौड़ से लौट रहा था जब घटना घटी।

भाग्य से, इस घटना में किसी और को चोट नहीं आई, और गवाहों के अनुसार, पायलट ने जहाज में झटका लगाने से ठीक पहले निकाल गया था।

सुरक्षा प्रक्रियाएँ और प्रतिक्रियाएं

विमान में सुरक्षित उड़ान के लिए मार्टिन बेकर जीरो-जीरो इजेक्शन सीट्स लगाए गए हैं, जो कम-गति या ठहराव की स्थितियों में भी सुरक्षित इजेक्शन संभव बनाते हैं। पायलट के सफल इजेक्शन को इन सुरक्षा तत्वों के प्रभावशाली होने का सबूत प्रस्तुत किया। अग्निशमन विभाग और आपातकालीन चिकित्सा कर्मचारी समय-समय पर हादसे की स्थल पर भेजे गए ताकि आग बुझाई जा सके और पायलट को आपातकालीन चिकित्सा सहायता मिल सके।

जैसा कि उल्लेख किया गया है, भारतीय वायुसेना ने तुरंत एक कोर्ट ऑफ इन्क्वायरी की स्थापना की ताकि हादसे के मुख्य कारण की जाँच की जा सके। इस प्रकार की जाँचें विमान दुर्घटनाओं में योगदान करने वाले तकनीकी, कार्यात्मक, या मानव तत्वों का निर्धारण करने के लिए आवश्यक होती हैं और उन्हें फिर से होने वाली दुर्घटनाओं को रोकने के लिए उपचारात्मक उपायों को स्थापित करने के लिए किया जाता है। संभावना है कि जाँच के नतीजे तेजस की सामान्य सुरक्षा विनियम, रखरखाव अनुसूचियाँ, और प्रशिक्षण कार्यक्रमों पर प्रभाव डालेंगे।

हालांकि, तेजस एलसीए हादसा निश्चित रूप से चिंताजनक है, इस बात पर जोर देना चाहिए कि दल जिंदा बच गया है, यह बताता है कि सैन्य विमान में मजबूत सुरक्षा प्रोटोकॉल कितने महत्वपूर्ण हैं। होने वाली जांच के दौरान स्थायित्व और सुरक्षा की गारंटी के लिए हिस्सेदारों को जवाबदेही और लगातार विकास पर उच्च प्राथमिकता देनी चाहिए, ताकि तेजस जैसे घरेलू विमानों की निर्भरता और सुरक्षा की गारंटी हो सके।

आप हमारे फेसबुक पेज से जुड़ सकते हैं  https://www.facebook.com/sirparadoxx?_rdr

आप हमारे यू ट्यूब चैनल से जुड़ सकते हैं  https://youtube.com/shorts/kuRvYs4FsVQ?si=pyrKxoI_rsRj7xSv

डिजिटल मार्केट एक्ट के बारे में आप यहां पढ़ सकते हैं  https://sirwiznews.com/wp-admin/post.php?post=7750&action=edit

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *